Sale!

JEEWAN REHESYA

450.00

इस पुस्तक का पहला प्रश्न ‘लोभ’ से शुरू होता है जिसके उत्तर में ओशो कहते हैं कि साधना के मार्ग पर ‘लोभ’ जैसे शब्द का प्रवेश ही वर्जित है क्योंकि यहीं पर बुनियादी भूल होने का डर है। फिर तनाव की परिभाषा करते हुए ओशो कहते हैं—”सब तनाव गहरे में कहीं पहुंचने का तनाव है और जिस वक्त आपने कहा, कहीं नहीं जाना तो मन के अस्तित्व की सारी आधारशिला हट गई।” फिर क्रोध, भीतर के खालीपन, भय इत्यादी विषयों पर चर्चा करते हुए ओशो प्रेम व सरलता—इन दो गुणों के अर्जन में ही जीवन की सार्थकता बताते हैं। पुस्तक के कुछ मुख्य विषय-बिंदु: लालच का मतलब क्या है? आपने कभी मौन से दुनिया को देखा है? धर्म विज्ञान है जीवन के मूल-स्रोत को जानने का मनुष्य के मन के साथ क्या भूल है? जीवन सरल कैसे हो सकता है? जीवन क्या है

2 in stock

SKU: OD185 Category:

Additional information

Weight 6279549 g
Dimensions 6279940 × 627992749 × 627968449 cm

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “JEEWAN REHESYA”

Your email address will not be published. Required fields are marked *